तनाव प्रबंधन और पॉज़िटिविटी का पहला मंत्र है परिवार: डॉ. आनंद गुप्ता

 तनाव प्रबंधन और पॉज़िटिविटी का पहला मंत्र है परिवार: डॉ. आनंद गुप्ता

रेलवे ट्रैिनंग संस्थान में अरावली हास्पिटल द्वारा सेमिनार 

जीवन में परिवार से बड़ा चिंता निवारक यानी स्ट्रेस बस्टर कुछ नहीं है। जिन्दगी का कोई भी दौर आए यदि आप हर अनुभव को परिवार और अपनों के साथ बांटते रहेंगे तो यकीन मानिए ताउम्र हिट और फिट के साथ सुपरहिट बने रहेंगे। परिवार और तनाव प्रबंधन पर ये टिप्स दिए लाइफ मैनेजमेंट कोच और अरावली हॉस्पिटल के निदेशक डॉ. आनंद गुप्ता ने।

हॉस्पिटल के 26 वर्ष पूरे होने के अवसर पर एक सप्ताह से चल रहे कार्यक्रमों की श्रृंखला का समापन गुरुवार को सुखाड़िया सर्किल स्थित रेलवे प्रशिक्षण संस्थान में हुआ। यहां आयोजित सेमिनार में देशभर के एक हजार से अधिक प्रशिक्षणार्थियों और शिक्षकों ने अपनी भागीदारी निभाई।

संस्थान की प्राचार्या मैत्रेयी चरण ने डॉ. गुप्ता और हॉस्पिटल की डायरेक्टर डॉ. संगीता  गुप्ता का स्वागत कर उनको आभार जताया कि इतने महत्वपूर्ण कार्य के लिए उन्होंने रेलवे प्रशिक्षण संस्थान को जोड़ा।

बेहतर जीवन जीने के लिए अपनाएं 7-7 और 20-20 फार्मूला

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन उदयपुर के अध्यक्ष डॉ. आनंद गुप्ता ने बेहतर जिन्दगी जीने तथा तनाव कम करने के सबको गुर बताए। उन्होंने बेहतर आहार और व्यायाम के लिए 7-7 और 20-20 के फॉर्मूले को अपने अनुभव के साथ साझा किया। उन्होंने बताया कि निरंतर चुनौतियों के कारण तनाव बढ़ता है, जो  आपकी क्षमताओं को कमजोर करता। जीवन को ऐसा बनाएं कि पॉजीटिव एनर्जी आपके अंदर की ताकत को मजबूत करती रहे।

तनाव बनता है कई बीमारियों का कारण भी

उन्होंने कहा कि लंबे समय तक तनाव न केवल मानसिक स्वास्थ्य बल्कि शारीरिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है। तनाव से स्ट्रॉक, दिल का दौरा, पेप्टिक अल्सर और अवसाद जैसी मानसिक बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। तनाव के प्रबंधन का पहला चरण तनाव के मूल कारण का पता लगाना है। उन्होंने जीवन शैली एवं कार्य शैली से कैसे अपने आपको स्वस्थ रखने के लिए महत्वपूर्ण बातों एवं याद रखने के लिए महत्त्वपूर्ण फॉर्मूले भी बताए।

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *